Skip to main content

मंजी हुई भाषा और जबरदस्त शिल्प-विन्यास


समीक्षक : डॉ. रमाकांत शर्मा

'जोया देसाई कॉटेज” जाने-माने कथाकार, उपन्यासकार और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिका “विभोम स्वर” के संपादक पंकज सुबीर का हाल में प्रकाशित नया कहानी संग्रह है। इस संग्रह की शुरूआत “भूमिका”, “प्राक्कथन” या “अपनी बात” जैसी औपचारिकता से नहीं हुई है। उन्होंने सीधे अपनी कहानियों के माध्यम से पाठकों तक पहुंचना बेहतर समझा है। यह रचना और पाठक को लेकर उनके आत्मविश्वास को प्रतिबिंबित करता है।

उनका कहानी कहने का अपना अंदाज है। कहानियों के शीर्षक भी उनके इस अंदाज को बयां करते हैं। संग्रह की पहली कहानी “स्थगित समय गुफा के वे फलाने आदमी” कोरोना काल की उस विभीषिका को सामने लाती है, जो शायद ही कहीं और उजागर हुई हो। संक्रमित हो जाने के डर से लाशों का अंतिम संस्कार करने का साहस परिवार के लोग भी नहीं कर पाते तो अन्य लोगों से कैसी अपेक्षा। इस काम को अंजाम देने के लिए चार लोग स्वैच्छिक रूप से रात-दिन जुटे रहते हैं। रात गए सेल फोन पर मदद के लिए आए उस महिला के कॉल को वे नजरअंदाज नहीं कर पाते जिसके पिता की मौत हो गई है, लाश पड़ी है और घर में उसके और उसकी मां के अलावा और कोई नहीं है। घर का दृश्य, मां-बेटी की स्थिति और व्यवहार, श्मशान में संस्कार के लिए लगी लाइनें, औपचारिकताएं और इस स्थिति में भी सरकारी इमदाद की चर्चा पाठक के रोंगटे खड़े कर देती है। यह कहानी पाठक के मन में ऐसी जुगुप्सा जगा जाती है जो कहानी पढ़ चुकने के बाद भी मन-मस्तिष्क में जमी रहती है।

मानसिक रोग विशेषज्ञ डॉ. संभव के पास जब मरीज राकेश कुमार को लाया गया तो उसके मुंह से “ढ़ोंड़ चले जै हैं काहू के संग” के अलावा और कुछ निकलता ही नहीं था। वह अपने आसपास की सारी दुनिया से कट चुका था और उक्त शब्दों के अलावा कोई दूसरी बात नहीं करता था। इस केस की जड़ में जाने के बाद उन्हें इन शब्दों का अर्थ मालूम पड़ता है, “किसी के साथ अपने गांव ढ़ौंड़ चले जाएंगे।“ इस मानसिक स्थिति के लिए जिम्मेदार बातों की पड़ताल करने पर सोशल मीडिया की जो भूमिका सामने आती है, वह वितृष्णा जगाने वाली है। सोशल मीडिया के हर ग्रुप में या तो गर्व के या फिर घृणा के भावों से भरी पोस्टों की भरमार होती है। ये पोस्ट सदस्यों के अपने विचारों या विचारधारा के अनुसार बहस क्या, बाकायदा युद्ध का रूप ले लेती हैं, विशेषकर तब जब गर्व या घृणा के लिए धर्म को विषय बनाया गया होता है। सच, आज सोशल-मीडिया पर यही सबकुछ तो हो रहा है। ऐसी बहसें दोस्तों को दुश्मन तक बनाए दे रही हैं। ये किसी भी संवेदनशील व्यक्ति की मानसिक स्थिति को कहां तक पहुंचा सकती हैं, इसका जबरदस्त विश्लेषण इस कहानी में हुआ है।

“डायरी में नीलकुसुम” अबोध प्रेम के उस आयाम की कहानी है जिसमें रंग-रूप, जाति-पांति सब अर्थहीन हो जाते हैं, रह जाता है बस निश्च्छल प्रेम। इसके उपजने का प्रत्यक्षत: कोई कारण नहीं होता। पर, अकारण प्रेम उपजता भी नहीं। “कई बार यह सहानुभूति की कोख से जन्म लेता है, क्योंकि यह असल में करुणा के विगलन से उत्पन्न होता है। कई बार अपने घर के वातावरण से घबरा कर या किसी बात से नाराज होकर हम बाहर प्रेम तलाशने लगते हैं। ऐसा प्रेम असल में एक प्रतिरोध ही होता है।“ शुभ्रा की डायरी में बंद उसका प्रेम हरिया असल में वह आकाश कुसुम था, जिसे प्राप्त करना लगभग नामुमकिन था। 

इस संग्रह की दो  कहानियां “खजुराहो” और “जोया देसाई कॉटेज” ऐसी भाव-भूमि पर खड़ी हैं जिस पर चर्चा करना सामान्यत: वर्जित है। विवाह के बाद स्त्रियों को अपना सारा जीवन एक पुरुष के इर्द-गिर्द समेट लेना होता है चाहे उसे वह चरम सुख मिले या ना मिले जिसकी आकांक्षा हर मन, हर शरीर को होती है। बहुगामी पुरुष जहां अपने शारीरिक सुख के लिए इधर-उधर भटक सकता है, पर स्त्री को यह स्वतंत्रता नहीं होती। “हर बार, एक अधूरापन छूट जाता है, ऐसा लगता है जैसे अब यही अधूरापन नियति बन चुका है। हर बार मंजिल से दो कदम दूर ही सफर समाप्त हो जाता है........तन के नासूर तो ठीक हो जाते हैं, पर मन के नासूर कहां ठीक होते हैं ..........प्यास बढ़ती जा रही है बहता दरिया देख कर, भागती जाती हैं लहरें यह तमाशा देख कर, क्या अजब खेल है कि हमारे आसपास कितने ही दरिया बह रहे हैं, मगर हमसे कहा गया है कि नहीं नियम है कि तुम्हें बस एक ही दरिया से पानी पीना है।“ 

ये दोनों कहानियां सामाजिक परंपराओं और वर्जनाओं की सारी सीमाओं को तोड़ती दिखती हैं। संदेश यही है कि जिंदगी का चरम सुख पाने के लिए किसी से भी संबंध बनाना गलत नहीं है चाहे वह उस होटल / कॉटेज का कार ड्राइवर हो या फिर मैनेजर जिसमें अतृप्त नायिकाएं ठहरती हैं। आखिर, वे ही उस चरम सुख से क्यों वंचित रहें जो उनका अधिकार है। इन कहानियों में निहित सच्चाइयां अपनी जगह हैं, शायद मन ही मन पाठक उन्हें सराहें भी, पर उन्हें स्वीकार करना और जिंदगी की इस बड़ी और वास्तविक समस्या का यह तात्कालिक समाधान कितना और कितनों के गले उतरता है, यह देखने की बात है।

“जाल फेंक रे मछेरे” कहानी इस शाश्वत सत्य पर आधारित है कि दूसरों को अपने जाल में फंसाने की प्रक्रिया में यह बिसरा दिया जाता है कि जाल फेंकने वाला खुद भी जाल में फंस सकता है। सकीना ने अपने बेटे ताहिर का रिश्ता उस घर में करने की जिद ठान रखी है जहां से उसे दहेज में वह सारी संपत्ति मिलने की उम्मीद है जो अंतत: उस विधवा की इकलौती लड़की और उसके होने वाले पति के नाम ही होनी है। इसके लिए वह हर तरह से जाल बिछाती है, पर उसे नहीं मालूम कि वह खुद ही कैसे इस जाल में फंसती चली जा रही है। 

जी नहीं, “जूली और कालू की प्रेम कथा में गोबर”  कहानी दो इंसानों के बीच की प्रेम कहानी नहीं है। यह नए आए कलेक्टर साहब की कुतिया जूली और छोटी-मोटी किसानी और मजदूरी करके पेट पालने वाले होरी और उसके जवान होते बेटे गोबर के पालतू कुत्ते कालू की प्रेम कथा है। इस कहानी में वह सबकुछ है जो किसी प्रेम कहानी वाली बालीवुड फिल्म में होता है। कालू प्रेमी है तो जूली प्रेमिका, दोनों प्रेम में अंधे होकर अपनी-अपनी हैसियत भूल जाते हैं। जूली  भूल जाती है कि वह जिले के सर्वोच्च अधिकारी की कुतिया है तो कालू यह कि वह गरीब किसान का पालतू कुत्ता है। कालू को अपनी हैसियत भूल जाने और गोबर को कलेक्टर के कर्मचारियों के सामने जुर्रत दिखाने का जो परिणाम मिलता है, वह रोंगटे खड़े करने वाला है। वस्तुत: यह कहानी शक्ति, अधिकार और सत्ता के मद में चूर कलेक्टर और शक्ति के सबसे अंतिम बिंदु पर खड़े उस कमजोर किसान की कहानी है जहां शक्ति एकदम शून्य हो जाती है। 

बढ़ते मशीनीकरण और कंप्यूटरीकरण की वजह से हाथ का काम करने वाले कारीगरों और मजदूरों की कम होती जरूरत और उसके कारण उनके बेकार और बेरोजगार होने की समस्या को “रामसरूप अकेला नहीं जाएगा” कहानी में गंभीरता से उठाया गया है। यह समस्या रामसरूप जैसे लोगों के साथ ही नहीं है, आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस के बढ़ते प्रयोग से अन्य रोजगारों पर भी विपरीत प्रभाव पड़ रहा है। आनलाइन क्लासेस ने मानव शिक्षकों तक की नौकरी को खतरे में डाल दिया है। यह एक ऐसा गुबार है जिसमें सभी तरह के और सभी के रोजगार समाते जा रहे हैं। इस कहानी में जिस समस्या को उठाया गया है, वह अपनी जगह है, पर इस बात को भी नजरअंदाज नहीं किया जा सकता कि मशीनीकरण, कंप्यूटरीकरण और आर्टिफीशियल इंटेलिजेंस ने रोजगार के नए-नए अवसर भी उपलब्ध कराए हैं और शुरुआती दौर में जिन आशंकाओं ने सिर उठाया था, वे धीरे-धीरे कम होती जा रही हैं।

किन्नर बनने और किन्नर का जीवन जीने की द्रवित कर देने वाली कहानी है “नोटा जान”। किन्नरों की दुनिया रहस्यों और अंधेरों से भरी होती हैं। कितनी-कितनी बातें होती हैं, इनके बारे में। कितनी कहानियां हैं इनके बारे में, सच हैं या झूठ, कोई नहीं जानता। यह कहानी ब्रजेश से बिंदिया बने किन्नर की कहानी है। खुशी के मौकों पर लोगों के घरों में नाचने-गाने वाले, अभद्र इशारे करके हंसने-हंसाने वाले किन्नरों के दिल में छुपा दर्द कभी सामने नहीं आ पाता। अपने घरों से दूर रहने और अपनी पहचान छुपा कर जीने को मजबूर किन्नरों के सीने में भी दिल होता है, भावनाएं होती हैं, पर उन्हें जानने-समझने वाला कोई नहीं होता। यहां तक कि खुद के परिवार वाले भी उनसे दूरी बनाए रखते हैं। बिंदिया का यह कहना किसी भी संवेदनशील मन को पिघला सकता है कि “अपनी ही जिंदगी से भाग कर जाऊंगी कहां साहब? लौट कर तो कहीं नहीं जा सकती। सबके लिए अब मैं नोटा का बटन हो गई हूं, किसी काम की नहीं”।

संग्रह की दो कहानियां “उजियारी काकी हंस रही है” और “हराम का अंडा” समाज में घरेलू स्त्रियों की बदहाल जिंदगी पर मर्मांतक टिप्पणी की तरह है। उजियारी काकी के लिए हंसना मना है, उसका काम है अपनी तमाम इच्छाओं को दफन करके सिर्फ पति की सेवा करना। उसकी सबसे बड़ी गलती है बहुत सुंदर होना। शंकित और हीन भावना से ग्रस्त पति की तंजपूर्ण बातें सुनने  और उसे नीचा दिखाने के लिए लाई गई सौत का दंश झेलने वाली उजियारी काकी की खोई हुई हंसी सिर्फ और सिर्फ मौत ही वापस लौटा सकती थी। “हराम का अंडा” कहानी में नूरी का हाल भी इससे बहुत अलग नहीं है। वह अपने पति को औलाद तभी दे सकती है जब उसका पूरा इलाज हो। पर उसके पति को उसका खर्चीला इलाज कराने से बेहतर लगता है कम खर्चीला दूसरा निकाह कर लेना। 

पंकज सुबीर कुशल कहानीकार हैं। कहानी कहने का उनका अपना अंदाज है। वे गंभीर विषयों को भी रोचक बना देते हैं। उनकी मंजी हुई भाषा और जबरदस्त शिल्प-विन्यास कहानी का एक-एक शब्द पढ़ने के लिए मजबूर कर देते हैं। इस संग्रह की सभी कहानियां उनकी इस विशेषता को शिद्दत से रेखांकित करती हैं। पढ़ कर देखिए, हर कहानी आपसे कुछ ना कुछ ऐसा कहती हुई मिलेगी जो आपको सोचने - विचारने पर मजबूर कर दे।

सम्पर्क :

डॉ. रमाकांत शर्मा
402-श्रीराम निवास, 
टट्टा निवासी हाउसिंग सोसायटी, 
पेस्तम सागर रोड नं.3, चेम्बूर, मुंबई -400089
मोबाइल – 9833443274
rks.mun@gmail.com


पुस्तक : जोया देसाई कॉटेज (कहानी संग्रह)
लेखक : पंकज सुबीर
प्रकाशक : शिवना प्रकाशन, सीहोर (म.प्र.)

 

Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी साहित्येतिहास लेखन की समस्याएँ

सारांश : इस शोधालेख के माध्यम से हिंदी साहित्य इतिहास लेखन के दौरान उत्पन्न होने  वाली समस्याओं को विश्लेषित किया गया है। बीज शब्द : साहित्यिक , पुनर्लेखन , इतिहास , गौरवान्वित , अकादमिक , प्रशासनिक , सृजनात्म-        कता , समावेश , सार्थकता , आकांक्षा , ऐतिहासिक , प्रतिबिंब , सामंजस्य , चित्तवृति , कालांतर , संकलन , आंकलन , आह्वान , स्वच्छंदतावाद। आ ज हिन्दी साहित्यिक विद्वानों और आलोचकों के बीच हिन्दी साहित्य पुनर्लेखन की समस्या का मुद्दा देखने-सुनने को मिल जाता है। इस समस्या का फलक इतना विस्तृत है कि इसे किसी लेख में बाँधना कठिन है। इसके पुनर्लेखन की समस्या पर विचार करने से पूर्व हमें इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि इतिहास वास्तव में होता क्या है ? साहित्यिक विद्वानों के इतिहास के संदर्भ में किस प्रकार के मत हैं ? अब तक इतिहास लेखन में किन-किन समस्याओं को देखने-समझने का प्रयास किया गया है। इसे लिखने की आवश्यकता क्यों है ? क्या यह साहित्य के लिए उपयोगी है ? इतिहास लेखन में किस प्रकार की सतर्कता बरतनी चाहिए ? किन-किन ऐतिहासिक तत्वों को जोड़ने या घटाने पर हिन्दी साहित्यिक इति

नैतिकता के सवाल और एकेडमिया

स भी प्राणियों में मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जिसके पास सोचने-समझने और बुद्धि के उपयोग की अधिक क्षमता है। यही वजह है कि वह निरंतर जीवन की बेहतरी के लिए प्रयासरत रहता है। इसी प्रयास में वह तमाम अन-सुलझे सवालों का जवाब ढूंढता है। सवालों का संबंध चेतना से है और चेतना तभी आती है जब हम चिंतन करते हैं , चिंतन भी तभी संभव है जब अध्ययन की लालसा हो या सही मौका मिले और सही मौका तभी मिल सकता है जब सामाजिक व्यवस्था लोकतांत्रिक हो , लोकतंत्र भी वहीं हो सकता है जहाँ नैतिकता जीवित रहे। असल में नैतिकता मनुष्य का वह स्वाभाविक गुण है जिससे मनुष्य स्वयं के प्रति उत्तरदायी होता है। दुनिया के तमाम संगठनों , संस्थानों और समुदायों की भी नैतिकता तय की जाती है , अपने आप में यह एक आदर्श स्थिति है। इसी आदर्श के दायरे में व्यक्ति , समाज , समुदाय , संगठन और संस्थानों को रहना होता है। नैतिकता के दायरे में ही सभी नियम या कानून तैयार किये जाते हैं। हालाँकि , नैतिकता मनुष्य का एक ऐसा गुण है जो हर परिस्थिति में उसके साथ रहती है , लेकिन कई बार मनुष्य की दूसरी प्रवृतियाँ इसे अपने अधिपत्य में ले लेती हैं। नतीजतन , लोभ , भय औ

उनकी टांग

सिंहासन बत्तीसी की कहानियाँ सुनीं थीं। टी. वी. पर धारावाहिक भी देखा और अनुमान भी लगाया कि राजा विक्रमादित्य अपने सिंहासन पर बैठे कैसे लगते होंगे ? लेकिन मेरी यह कल्पना तब साकार हुई , जब विद्यालय से घर पहुँचा ही था कि जेब में पड़ा फोन कँपकँपा उठा , मैं तो समझा कि शायद दिल में कंपन हो रहा है , लेकिन अगले ही पल हाथ स्वयं ही जेब में पहुँच गया और मैंने फोन निकालकर देखा कि किसका फोन है ? फोन श्रीमती जी का था इसलिए उसे काटने या अवाइड करने का तो प्रश्न ही नहीं था , तुरन्त आज्ञाकारी पति की होने का फर्ज़ निभाते हुए फोन अटेण्ड किया। हैलो कहने से पहले ही आकाशवाणी की तरह फोन से आवाज़ आई , “ घर में हो तो तुरन्त बाहर आ जाओ ” । मेरे ‘ क्या हुआ ’ पूछने से पहले ही फोन कट गया। बहरहाल मैं तुरन्त ही बाहर गया , पर मुझे ऐसा कुछ नहीं लगा जिससे चौंका जाए। इधर और उधर से रिक्शे , मोटरसाइकिल और पैदल लोगों के साथ लोग अपने दैनिक कार्यों में लगे हुए थे। आवारा कुत्ते सड़क किनारे छाँव में सुस्ता रहे थे और कुछ पिल्ले यहाँ-वहाँ चहलकदमी कर रहे थे।             मैंने सड़क के दोनों ओर देखा , कुछ नहीं है मन में बुदबुदाया

निराला : आत्महन्ता आस्था और दूधनाथ सिंह

कवि-कथाकार और आलोचकीय प्रतिभा को अपने व्यक्तित्व में समोये दूधनाथ सिंह एक संवेदनशील , बौद्धिक , सजगता सम्पन्न दृष्टि रखने वाले शीर्षस्थ समकालीन आलोचक हैं। आपके अध्ययन-विश्लेषण का दायरा व्यापक और विस्तीर्ण है। निराला साहित्य के व्यक्तित्व के विविध पक्षों और उनकी रचनात्मकता के सघन अनुभव क्षणों  का गहरा समीक्षात्मक विश्लेषण आपने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘‘ निराला: आत्महन्ता आस्था ’’ (1972) में किया है।             दूधनाथ सिंह जी सर्वप्रथम पुस्तक के शीर्षक की सार्थकता को विवेचित करते हुए लिखते हैं कि कला और रचना के प्रति एकान्त समर्पण और गहरी निष्ठा रखने वाला रचनाकार बाहरी दुनिया से बेखबर ‘‘ घनी-सुनहली अयालों वाला एक सिंह होता है , जिसकी जीभ पर उसके स्वयं के भीतर निहित रचनात्मकता का खून लगा होता है। अपनी सिंहवृत्ति के कारण वह कभी भी इस खून का स्वाद नहीं भूलता और हर वक्त शिकार की ताक में सजग रहता है- चारों ओर से अपनी नजरें समेटे , एकाग्रचित्त , आत्ममुख , एकाकी और कोलाहलपूर्ण शान्ति में जूझने और झपटने को तैयार।...... इस तरह यह एकान्त-समर्पण एक प्रकार का आत्मभोज होता है: कला-रचना के प्रति यह अन

एक आदिवासी भील सम्राट ने प्रारंभ किया था ‘विक्रम संवत’

-जितेन्द्र विसारिया जैन साहित्य के अनुसार मौर्य व शुंग के बाद ईसा पूर्व की प्रथम सदी में उज्जैन पर गर्दभिल्ल (भील वंश) वंश ने मालवा पर राज किया। राजा गर्दभिल्ल अथवा गंधर्वसेन भील जनजाति से संबंधित थे,  आज भी ओडिशा के पूर्वी भाग के क्षेत्र को गर्दभिल्ल और भील प्रदेश कहा जाता है। मत्स्य पुराण के श्लोक के अनुसार :           सन्तैवाध्रा  भविष्यति दशाभीरास्तथा नृपा:।           सप्तव  गर्दभिल्लाश्च  शकाश्चाष्टादशैवतु।। 7 आंध्र, 10 आभीर, 7 गर्दभिल्ल और 18 शक राजा होने का उल्लेख है। 1 पुराणों में आन्ध्रों के पतन के पश्चात् उदित अनेक वंश, यथा (सात श्री पर्वतीय आन्ध्र (52 वर्ष), दस आभीर (67 वर्ष) सप्त गर्दभिल्ल (72 वर्ष) अठारह शक (183 वर्ष) आठ यवन (87 वर्ष) इत्यादि सभी आन्ध्रों के सेवक कहे गये हैं। इन राजवंशों में सप्त गर्दभिल्लों का उल्लेख है। जैनाचार्य मेरुतुंग रचित थेरावलि में उल्लेख मिलता है कि गर्दभिल्ल वंश का राज्य उज्जयिनी में 153 वर्ष तक रहा। 2 'कलकाचार्य कथा' नामक पाण्डुलिपि में वर्णित जैन भिक्षु कलकाचार्य और राजा शक (छत्रपति शिवाजी महाराज वस्तु संग्रहालय, मुम्बई) (फोटो : विकि