Skip to main content

दलित स्त्री विमर्श : अतीत से वर्तमान की यात्रा

देश को आजादी मिलने के बाद समाज के प्रत्येक वर्ग को एक भरोसा था कि इसमें उनकी भी मुक्ति शामिल हैलेकिन बदलते राजनीतिक मुखौटो व आर्थिक सामाजिक चुनौतियों के बीच कुछ वर्गों की तरफ सत्ता व्यवस्था ने ध्यान ही नहीं दिया। संविधान लागू होने के बावजूद दलित,आदिवासी और स्त्री समाज में बहुत सकारात्मक परिवर्तन नहीं हो रहें थे। इसके उलट इनपर शोषण और बढ़ता ही जा रहा था। इन्हीं परिस्थितियों में दलित और स्त्री विमर्श जैसे दो प्रमुख अस्मिता मूलक विमर्शों का उदय होता है। आरक्षण लागू होने के बाद दलित व स्त्री समाज की पहली पीढ़ी को उच्च शिक्षा में आने का अवसर मिला। हालांकि सवर्ण समाज की स्त्रियां उसके पहले भी उच्च शिक्षा में थी लेकिन जैसी भागीदारी होनी चाहिए वैसी भागीदारी का अभाव था। वहीं दूसरी तरफ दुनिया के मानचित्र पर भारत एक बड़े बाजार के तौर पर उभर रहा था। भारत दुनिया भर के पूंजीपतियों के लिए दरवाजे खोलकर मुक्त व्यापार को निमंत्रण दे रहा था। जिसका परिणाम यह हुआ कि नयी कंपनियोंकारखानों के बनने से रोजगार के नए अवसरों की उपलब्धता बढ़ी जिसने अशिक्षित गरीब समाजों के लिए आर्थिक समृद्धि को प्रोत्साहित किया। एक ही समय में आरक्षण से प्राप्त शिक्षा और सरकार के उदारवादी आर्थिक नीतियों से उपलब्ध रोजगार ने दलित समाज को सामाजिक और आर्थिक रूप से इस लायक बना दिया की वे अपने अधिकारों को लेकर जागरूक होने लगे।इस जागरूकता की स्पष्ट झलक हमें साहित्य में देखने को मिलने लगी। बीसवीं सदी के आखिरी दो दशक व इक्कीसवीं सदी के पहले दशक में इन दोनों विमर्शों ने पूरी दुनिया में अपना लोहा मनवाया। लेकिन इन सबके बावजूद भी एक वर्ग जो इनके बीच का होकर भी उपेक्षित था, वह थी दलित स्त्री।



सदियों से जाति के नाम पर शोषण झेल रहे दलित समाज को जब अवसर मिला तो उसने दुनिया के सामने आत्मकथाओं व कहानियों के माध्यम से अपने दुख व शोषण को दर्ज किया। इसमें दलित समाज के पुरुष आगे थेक्योंकि भारत अपने मूल चरित्र में पितृसत्तात्मक समाज रहा है जिसका प्रभाव दलित जातियों पर भी दिखा। दूसरी तरफ स्त्री विमर्श में भी सवर्ण स्त्रियां आगे रही क्योंकि उनको शिक्षित होने का अवसर पहले मिला। लेकिन इन स्त्री विमर्शकारों ने अपने विमर्श में दलित स्त्री के साथ दूरी बनाए रखा। इस तरह दलित स्त्री एक साथ पितृसत्ता और ब्राह्मणवादी सत्ता दोनों की उपेक्षाओं की शिकार हुई। लेकिन बदलते समय वह शिक्षा के अवसरों की उपलब्धता के कारण जब दलित स्त्री को शिक्षा मिली तो वह भी अपने अधिकारों को लेकर सचेत व सजग हुई जिसका परिणाम हमें दोहरा अभिशाप (कौशल्या बसंती) और शिकंजे का दर्द (सुशीला टाकभौरे) की आत्मकथाओं आदि  के रूप में देखने को मिलता है। अवसरों की अनुपलब्धता व उपेक्षा की मार झेलते हुए आज दलित स्त्री उच्च शिक्षण संस्थानों में पढ़ने व पढ़ाने का काम कर रही है। इसी दोहरे अभिशाप को एक दलित स्त्री (दलित स्त्री का समाज) कैसे देखती व महसूस करती है, का दस्तावेज है प्रियंका सोनकर की किताब 'दलित स्त्री विमर्श : सृजन और संघर्ष'। प्रलेक प्रकाशन से छपी इस किताब के बारे में प्रियंका सोनकर स्वयं बताती हैं कि 'स्त्री साहित्य और दलित साहित्य में नारीवादियोंसवर्ण और दलित पुरुषों द्वारा दलित स्त्रियों की उपेक्षा ने ही दलित स्त्री विमर्श को जन्म दिया है। यह किताब उसी  विमर्श की कड़ी में एक सकारात्मक प्रयास भर है।

सवाल यह है कि इस किताब को क्यों पढ़ा जाना चाहिएइसी प्रश्न का उत्तर आगे तलाशेंगे। यह किताब चार खंडों में विभाजित है। प्रत्येक खंड अपने विशेष संदर्भ के साथ उपस्थित है।

पहला खंड दलित आंदोलन और दलित साहित्य की अवधारणा व उसके विकास प्रक्रिया को लेकर लिखी गई है। आज दलित साहित्य का जो स्वरूप हमारे सामने उपस्थित है उसके निर्माण में हुए ऐतिहासिक व सामाजिक संघर्षों को दर्ज किया गया है। उत्तर भारत से लेकर दक्षिण भारत तक दलित अस्मिता को प्रभावित करने वाले कारणों को विद्वानों के कथनों के माध्यम से रेखांकित किया गया है।दलित समाज पर पड़ने वाले राजनीतिक व सामाजिक प्रभाव को दर्ज किया गया है। गैर दलित रचनाकारों खास कर प्रेमचंदनिराला और मैथिलीशरण गुप्त जैसे लेखकों के विचारों और कथनों को भी उद्धरित किया गया है। वामपंथी लेखकों के प्रगतिशील चेतना में दलित मूल्यों की उपस्थिति की भी चर्चा की गई है। इस पूरे खंड में दलित अस्मिता के निर्माण में शामिल घटनाओं व संबंधित व्यक्तियों की उपस्थिति दर्ज की गई है।

दूसरे खंड में मुख्य रूप से दलित स्त्री विमर्श को केंद्र में रखा गया है। इस किताब के आने से पहले सुजाता की बहुत चर्चित किताब 'आलोचना का स्त्री पक्ष' आया, जिसमें स्त्री शोषण और उससे मुक्ति के विभिन्न आयामों की चर्चा की गई है। लेकिन उस किताब से भी दलित स्त्री के सवाल गायब हैं। वर्तमान का तथाकथित मुख्यधारा का 'स्त्री विमर्श', 'सवर्ण स्त्री विमर्श' बनकर रह गया है, जिसमें  दलित व आदिवासी समाज के सवालों के लिए कोई स्थान ही नहीं है। अगर है भी तो महज खाना पूर्ति के तौर पर। इन्हीं उपेक्षाओ के कारण प्रियंका सोनकर और जसिंता केरकेट्टा जैसी स्त्रियां साहित्य के क्षेत्र में आकर बताती है कि हमारे सवाल व हमारी प्रतिभा किसी भी अन्य समाजों से तनिक भी कम नहीं है। इस खंड में दलित स्त्री के ऐतिहासिक उपस्थिति की पड़ताल व उनकी सामाजिक आर्थिक व राजनीतिक स्थिति की शिनाख्त की गई है। बौद्ध कालीन थेरी गाथाओं से होते हुएमध्यकालीन दलित संत कवित्रियों व 1857 के स्वतंत्रता संघर्ष में उपस्थित दलित वीरांगनाओं के रास्ते वर्तमान तक की यात्रा की गई है। इस खंड में दलित स्त्री विमर्श पर डॉ. आंबेडकर व सावित्रीबाई फुले के प्रभाव को प्रमुखता से रेखांकित किया गया है। साथ ही भारतीय संविधान में दलित स्त्री के हितों व हिंदू कोड बिल की उपयोगिता को भी समझाया गया है। दलित राजनीति में दलित स्त्री के योगदान को लेकर एक पूरा चैप्टर दर्ज है। कांशीराम साहब जी ने जिस दलित आंदोलन के मुहिम को चलाया था, उसको कैसे मायावती जैसी सशक्त  महिला ने संभाला और आगे बढ़ाया इस संदर्भ को भी दर्ज किया गया है। इस तरह दूसरा खंड पूरी तरह दलित स्त्री संघर्ष के व्यावहारिक पक्षों को समर्पित है।

तीसरे खंड में दलित स्त्री विमर्श के सैद्धांतिक पहलुओं को लिया गया है। दलित स्त्री विमर्श की अवधारणा स्वरूप व उसके रचनात्मक पहलुओं को दर्ज किया गया है। साथ ही दुनिया में दलित स्त्री संघर्ष के समान और कौन-कौन से वर्ग है जो संघर्षरत है का वर्णन किया गया है। इस खंड में प्रियंका जी ने सहानुभूति और स्वानुभूति के मामलों को भी उठाया है। इस मामले में प्रियंका जी ने बहुत स्पष्ट विचार रखा है कि ऐसी कोई अनिवार्यता नहीं है कि जो दलित समाज में पैदा हुआ हैवही दलित स्त्री विमर्श पर लेखन कर सकता है उनका मानना है कि जो भी डॉक्टर अंबेडकर के विचारों को मानता हैदलित स्त्रियों की बेहतरीन के लिए प्रयास करता है उसका लिखा दलित स्त्री लेखन माना जाएगा।

चौथा खंड दलित स्त्रियों पर थोपे गए कुरीतियों और उन कुरीतियों के खिलाफ हुए आंदोलन और संघर्ष को रेखांकित किया है। प्रियंका जी इस खंड में बताती है कि कैसे एक स्त्री के बलात्कार के पीछे जाति काम करती है। और किस तरह उस बलात्कार पर तथाकथित मुख्य धारा(सवर्ण) की स्त्री विमर्शकारों की चुप्पी इस देश के ब्राह्मणवादी पितृसत्तात्मक चरित्र को उजागर करती है। फूलन देवी, भंवरी देवी आदि उदाहरण से इस बात को समझाया भी है। देवदासी, बहुजुठाई जैसी अमानवीय कुरीतियों को जो केवल दलित समाजों पर ही थोपा गया था। इन कुरीतियों के खिलाफ हुए आंदोलन को भी दर्ज किया गया है।

इस प्रकार समग्रता में देखे तो यह किताब दलित साहित्य की अवधारणा व उसके विकास यात्रा को समझने की एक शानदार किताब है। दलित स्त्री को केंद्र में रखकर लिखी गई या पुस्तक दलित साहित्य की अवधारणा, उसके सामाजिक, ऐतिहासिक व राजनीतिक पहलुओं को रेखांकित करते हुए अतीत से वर्तमान तक की यात्रा करती है। एक ही किताब में आप दलित साहित्य की विकास यात्रा व दलित स्त्री विमर्श के उदय के कारणों की सामाजिक, ऐतिहासिक पड़ताल कर सकते हैं। इस पुस्तक की सबसे सुंदर बात यह है कि प्रियंका जी ने कुछ भी थोपा नहीं है। अपनी बातों को पुष्ट करने के लिए पर्याप्त संदर्भ दिया है। कुछ जगहों पर सुधार की गुंजाइश है जैसे कि अश्वेत नारी आंदोलन की जगह स्पष्ट ब्लैक वूमेन मूवमेंट किया जा सकता है। पूरी किताब में मुझे मौलिक स्थापनाओं की कमी महसूस हुई। उम्मीद है कि प्रियंका जी अपनी आने वाली किताबों में कुछ स्थापना भी देंगी। अतः अगर आप दलित आंदोलनदलित स्त्री आंदोलन के इतिहास व वर्तमान को समझना चाहते हैं तो यह  किताब आपके काम की है। प्रियंका जी को इस बात के लिए विशेष धन्यवाद कि उन्होंने इतने कम मूल्य में एक जरूरी दलित स्त्री अस्मिता मूलक किताब पाठकों के सामने उपलब्ध कराई।

  

किताब :- दलित स्त्री विमर्श : सृजन और संघर्ष

लेखक:- प्रियंका सोनकर

प्रकाशक :- प्रलेक प्रकाशन 2024

 

समीक्षक :-प्रफुल्ल रंजन

शोध छात्र: हिंदी विभाग(काशी हिंदू विश्वविद्यालय)

मो :-9450916312 


Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी साहित्येतिहास लेखन की समस्याएँ

सारांश : इस शोधालेख के माध्यम से हिंदी साहित्य इतिहास लेखन के दौरान उत्पन्न होने  वाली समस्याओं को विश्लेषित किया गया है। बीज शब्द : साहित्यिक , पुनर्लेखन , इतिहास , गौरवान्वित , अकादमिक , प्रशासनिक , सृजनात्म-        कता , समावेश , सार्थकता , आकांक्षा , ऐतिहासिक , प्रतिबिंब , सामंजस्य , चित्तवृति , कालांतर , संकलन , आंकलन , आह्वान , स्वच्छंदतावाद। आ ज हिन्दी साहित्यिक विद्वानों और आलोचकों के बीच हिन्दी साहित्य पुनर्लेखन की समस्या का मुद्दा देखने-सुनने को मिल जाता है। इस समस्या का फलक इतना विस्तृत है कि इसे किसी लेख में बाँधना कठिन है। इसके पुनर्लेखन की समस्या पर विचार करने से पूर्व हमें इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि इतिहास वास्तव में होता क्या है ? साहित्यिक विद्वानों के इतिहास के संदर्भ में किस प्रकार के मत हैं ? अब तक इतिहास लेखन में किन-किन समस्याओं को देखने-समझने का प्रयास किया गया है। इसे लिखने की आवश्यकता क्यों है ? क्या यह साहित्य के लिए उपयोगी है ? इतिहास लेखन में किस प्रकार की सतर्कता बरतनी चाहिए ? किन-किन ऐतिहासिक तत्वों को जोड़ने या घटाने पर हिन्दी साहित्यिक इति

नैतिकता के सवाल और एकेडमिया

स भी प्राणियों में मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जिसके पास सोचने-समझने और बुद्धि के उपयोग की अधिक क्षमता है। यही वजह है कि वह निरंतर जीवन की बेहतरी के लिए प्रयासरत रहता है। इसी प्रयास में वह तमाम अन-सुलझे सवालों का जवाब ढूंढता है। सवालों का संबंध चेतना से है और चेतना तभी आती है जब हम चिंतन करते हैं , चिंतन भी तभी संभव है जब अध्ययन की लालसा हो या सही मौका मिले और सही मौका तभी मिल सकता है जब सामाजिक व्यवस्था लोकतांत्रिक हो , लोकतंत्र भी वहीं हो सकता है जहाँ नैतिकता जीवित रहे। असल में नैतिकता मनुष्य का वह स्वाभाविक गुण है जिससे मनुष्य स्वयं के प्रति उत्तरदायी होता है। दुनिया के तमाम संगठनों , संस्थानों और समुदायों की भी नैतिकता तय की जाती है , अपने आप में यह एक आदर्श स्थिति है। इसी आदर्श के दायरे में व्यक्ति , समाज , समुदाय , संगठन और संस्थानों को रहना होता है। नैतिकता के दायरे में ही सभी नियम या कानून तैयार किये जाते हैं। हालाँकि , नैतिकता मनुष्य का एक ऐसा गुण है जो हर परिस्थिति में उसके साथ रहती है , लेकिन कई बार मनुष्य की दूसरी प्रवृतियाँ इसे अपने अधिपत्य में ले लेती हैं। नतीजतन , लोभ , भय औ

उनकी टांग

सिंहासन बत्तीसी की कहानियाँ सुनीं थीं। टी. वी. पर धारावाहिक भी देखा और अनुमान भी लगाया कि राजा विक्रमादित्य अपने सिंहासन पर बैठे कैसे लगते होंगे ? लेकिन मेरी यह कल्पना तब साकार हुई , जब विद्यालय से घर पहुँचा ही था कि जेब में पड़ा फोन कँपकँपा उठा , मैं तो समझा कि शायद दिल में कंपन हो रहा है , लेकिन अगले ही पल हाथ स्वयं ही जेब में पहुँच गया और मैंने फोन निकालकर देखा कि किसका फोन है ? फोन श्रीमती जी का था इसलिए उसे काटने या अवाइड करने का तो प्रश्न ही नहीं था , तुरन्त आज्ञाकारी पति की होने का फर्ज़ निभाते हुए फोन अटेण्ड किया। हैलो कहने से पहले ही आकाशवाणी की तरह फोन से आवाज़ आई , “ घर में हो तो तुरन्त बाहर आ जाओ ” । मेरे ‘ क्या हुआ ’ पूछने से पहले ही फोन कट गया। बहरहाल मैं तुरन्त ही बाहर गया , पर मुझे ऐसा कुछ नहीं लगा जिससे चौंका जाए। इधर और उधर से रिक्शे , मोटरसाइकिल और पैदल लोगों के साथ लोग अपने दैनिक कार्यों में लगे हुए थे। आवारा कुत्ते सड़क किनारे छाँव में सुस्ता रहे थे और कुछ पिल्ले यहाँ-वहाँ चहलकदमी कर रहे थे।             मैंने सड़क के दोनों ओर देखा , कुछ नहीं है मन में बुदबुदाया

निराला : आत्महन्ता आस्था और दूधनाथ सिंह

कवि-कथाकार और आलोचकीय प्रतिभा को अपने व्यक्तित्व में समोये दूधनाथ सिंह एक संवेदनशील , बौद्धिक , सजगता सम्पन्न दृष्टि रखने वाले शीर्षस्थ समकालीन आलोचक हैं। आपके अध्ययन-विश्लेषण का दायरा व्यापक और विस्तीर्ण है। निराला साहित्य के व्यक्तित्व के विविध पक्षों और उनकी रचनात्मकता के सघन अनुभव क्षणों  का गहरा समीक्षात्मक विश्लेषण आपने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘‘ निराला: आत्महन्ता आस्था ’’ (1972) में किया है।             दूधनाथ सिंह जी सर्वप्रथम पुस्तक के शीर्षक की सार्थकता को विवेचित करते हुए लिखते हैं कि कला और रचना के प्रति एकान्त समर्पण और गहरी निष्ठा रखने वाला रचनाकार बाहरी दुनिया से बेखबर ‘‘ घनी-सुनहली अयालों वाला एक सिंह होता है , जिसकी जीभ पर उसके स्वयं के भीतर निहित रचनात्मकता का खून लगा होता है। अपनी सिंहवृत्ति के कारण वह कभी भी इस खून का स्वाद नहीं भूलता और हर वक्त शिकार की ताक में सजग रहता है- चारों ओर से अपनी नजरें समेटे , एकाग्रचित्त , आत्ममुख , एकाकी और कोलाहलपूर्ण शान्ति में जूझने और झपटने को तैयार।...... इस तरह यह एकान्त-समर्पण एक प्रकार का आत्मभोज होता है: कला-रचना के प्रति यह अन

एक आदिवासी भील सम्राट ने प्रारंभ किया था ‘विक्रम संवत’

-जितेन्द्र विसारिया जैन साहित्य के अनुसार मौर्य व शुंग के बाद ईसा पूर्व की प्रथम सदी में उज्जैन पर गर्दभिल्ल (भील वंश) वंश ने मालवा पर राज किया। राजा गर्दभिल्ल अथवा गंधर्वसेन भील जनजाति से संबंधित थे,  आज भी ओडिशा के पूर्वी भाग के क्षेत्र को गर्दभिल्ल और भील प्रदेश कहा जाता है। मत्स्य पुराण के श्लोक के अनुसार :           सन्तैवाध्रा  भविष्यति दशाभीरास्तथा नृपा:।           सप्तव  गर्दभिल्लाश्च  शकाश्चाष्टादशैवतु।। 7 आंध्र, 10 आभीर, 7 गर्दभिल्ल और 18 शक राजा होने का उल्लेख है। 1 पुराणों में आन्ध्रों के पतन के पश्चात् उदित अनेक वंश, यथा (सात श्री पर्वतीय आन्ध्र (52 वर्ष), दस आभीर (67 वर्ष) सप्त गर्दभिल्ल (72 वर्ष) अठारह शक (183 वर्ष) आठ यवन (87 वर्ष) इत्यादि सभी आन्ध्रों के सेवक कहे गये हैं। इन राजवंशों में सप्त गर्दभिल्लों का उल्लेख है। जैनाचार्य मेरुतुंग रचित थेरावलि में उल्लेख मिलता है कि गर्दभिल्ल वंश का राज्य उज्जयिनी में 153 वर्ष तक रहा। 2 'कलकाचार्य कथा' नामक पाण्डुलिपि में वर्णित जैन भिक्षु कलकाचार्य और राजा शक (छत्रपति शिवाजी महाराज वस्तु संग्रहालय, मुम्बई) (फोटो : विकि