Skip to main content

घुमंतू समुदाय की दुश्वारियां सामने लाता है ‘साँप’ उपन्यास

नवादी लेखक संघ (जलेस) समय-समय पर महत्त्वपूर्ण किताबों की समीक्षा-गोष्ठियों का आयोजन करता है अपनी नई सीरीज में जलेस ने ‘नदी पुत्र’ (रमाशंकर सिंह), ‘प्रेमाश्रम’ (प्रेमचंद) के बाद 11दिसंबर, को हरिकिशन सिंह सुरजीत सभागार,नई दिल्ली में रत्नकुमार सांभरिया लिखित ‘साँप’ उपन्यास पर समीक्षा-गोष्ठी का आयोजन किया|  गोष्ठी की अध्यक्षता कवि-आलोचक डॉ. चंचल चौहान ने की

अपने अध्यक्षीय संबोधन में चंचल चौहान ने "सांप" उपन्यास को महत्त्वपूर्ण बताते हुए कहा कि यह घुमंतू समुदाय की कठिन जीवन स्थितियों और संघर्षों को आधार बनाकर लिखा गया है उन्होंने उपन्यास की वस्तु और शैली की प्रशंसा की चंचल जी ने कहा कि जिस घुमंतू समुदाय के पास कोई नहीं जाता उनके बीच रहकर, बारीकी से पर्यवेक्षण करके सांभरिया जी ने यह श्रमसाध्य कार्य किया है
वरिष्ठ कवि एवं आलोचक डॉ. एन. सिंह ने विमल मित्र और अमृतलाल नागर जैसे समर्थ कथाकारों के हवाले से कहा कि वे बहुत दिनों से किसी ऐसे दलित उपन्यास की तलाश में थे जो ‘खरीदी कौड़ियों के मोल’ तथा ‘बूँद और समुद्र’ जैसा हो एन. सिंह ने कहा कि ‘साँप’ उपन्यास भी अपनी सहज भाषा-शैली और यथार्थपरक दृष्टि के कारण पाठकों को अनायास अपना-सा लगने लगता है 
कथालोचक महेश दर्पण का मंतव्य था कि बिना घनिष्ठ परिचय के ऐसी भाषा नहीं लिखी जा सकतीशुरू से डेढ़ सौ पृष्ठों तक यह उपन्यास बहुत सधी और सहज भाषा में आगे बढ़ता है उपन्यास में स्त्री का बाहर निकलना महत्वपूर्ण है उपन्यास का मुख्य पात्र लखीनाथ सपेरा व्यक्ति से समाज की यात्रा कराता है यह डिटेलिंग का उपन्यास है उन्होंने इस उपन्यास के सम्पादन की ज़रूरत बताई 
वरिष्ठ कथाकार हरियश राय ने कहा कि कौतूहल या औत्सुक्य इस उपन्यास की विशेषता है अपने शुरुआती हिस्से में उपन्यास बहुत सधा हुआ है लखीनाथ धीरोदात्त नायक है वह विचलन का शिकार नहीं होता मिलन देवी और धर्मकंवर उपन्यास के सकारात्मक चरित्र हैं उपन्यास में यथार्थ से कल्पना की यात्रा होती है सपेरों की जीविका कैसे चलेगी, इस प्रश्न पर उपन्यास मौन है सपेरे अपना पेशा छोड़ने के बाद मजदूरी करने लगते हैं विजयदान देथा और अमरकांत की रचनात्मक भाषा से रत्नकुमार की लेखनी को समीकृत करते हुए हरियश राय ने कहा कि स्थानीयता ‘साँप’ उपन्यास की बहुत बड़ी खूबी है
आलोचक प्रेम तिवारी ने इस उपन्यास में विकसित प्रेम संबंध को कथा का प्राणतत्व बताया उन्होंने कहा कि मिलन देवी और लखीनाथ मिलकर भी नहीं मिल पाते, रचनाकार की यह ‘नैतिकता’ अखरती है साँप की विषयवस्तु नई लेकिन ढांचा पुराना है उपन्यास में आँचलिकता के पूरे लक्षण दिखाई देते हैं कथाकार डॉ. टेकचंद ने समकाल की रोशनी में उपन्यास की व्याख्या की उन्होंने कहा कि आज जिंदा को मारकर नकली की प्राण प्रतिष्ठा की जा रही है दलितों, आदिवासियों पर होने वाली हिंसा का उल्लेख करते हुए टेकचंद ने कहा कि देश में देश बेगाना है उपन्यास में स्त्रियों का करेक्टर ठीक से गढ़ा गया है उच्च वर्गीय लोगों में कभी कभी मसाणियाँ बैराग पैदा होता है जैसे इस उपन्यास के सेठ-सेठानियों में है हाँ, मिलन देवी में यह भाव स्थायी रूप से आता है उन्होंने कहा कि उपन्यास में यूटोपिया- डिस्टोपिया का द्वंद्व ठीक से नहीं बन पा रहा है मिलन देवी समस्या का समाधान कर देती हैं| कई चरित्र सपाट भी हुए हैं
विमर्शकार डॉ. छोटूराम मीणा ने कहा कि उपन्यास का नायक लखीनाथ अपनी शर्तों पर जीने वाला व्यक्ति है सपरानाथ खल पात्र है| उन्होंने कहा कि पितृसत्ता घुमंतू जातियों में भी है लेकिन भिन्न प्रकार की उनके अनुसार यह उपन्यास क्रिमिनल ट्राइब एक्ट 1871 को ध्वस्त करता है उपन्यास में राजस्थानी के शब्द हैं और हरियाणवी के भी इन शब्दों से पठनीयता में बाधा नहीं आती आलोचक डॉ. सरोज कुमारी ने 35 अध्यायों और 400 से अधिक पृष्ठों में रचित इस कृति को स्त्री प्रधान उपन्यास बताया उपन्यास से साँपों की दिनचर्या सामने आती है| उपन्यास में देशज शब्दों की भरमार है जिससे दिक्कत होती है सरोज कुमारी ने कहा कि इस उपन्यास को पाठ्यक्रम में लगाया जाना चाहिए
इतिहासविद और आलोचक रमाशंकर सिंह ने कहा कि हमें दलित विमर्श से बाहर जाकर ‘साँप’ के बारे में बात करनी होगी घुमंतू जातियाँ धरती बिछाती हैं, आकाश ओढ़ती हैं यह मानवीय अनुभव जानने के लिये ही इतिहासकार साहित्य की तरफ आ रहे हैं उपन्यास के कवर पेज पर किए गये दावे कि यह हाशिए के समाज का पहला उपन्यास है आपत्ति जताते हुए वक्ता ने कहा कि पहले भी इस विषय पर कई कृतियाँ लिखी जा चुकी हैं रमाशंकर सिंह ने कहा कि मनुष्य की महानता की बिजली घूमंतू लोगों पर टूटी हैं, जानवरों पर ख़ास तौर से

‘साँप’ के लेखक रत्नकुमार सांभरिया ने अपने वक्तव्य में कहा कि जहाँ रांगेय राघव का ‘कब तक पुकारूँ’ उपन्यास करनट जाति पर, मैत्रेयी पुष्पा का ‘अल्मा कबूतरी’ उपन्यास कबूतरा जाति पर, मणिमधुकर का उपन्यास ‘पिंजरे में पन्ना’ गाड़िया लोहार जाति पर तथा शरद सिंह का उपन्यास ‘पिछले पन्ने की औरतें’ बेड़िया जाति पर केंद्रित है, वही ‘साँप’ उपन्यास सपेरा- कालबेलिया, कंजर, मदारी, कलंदर, कुचबंद, नट, बाजीगर, भांड-बहुरुपिया जैसी खानाबदोश-घुमंतू जनजातियों के सामूहिक वर्ग-संघर्ष का प्रतिफलन है इस संघर्ष में उनके जीव जानवर सहभागी होते हैं।
आभार ज्ञापन करते हुए जलेस के महासचिव डॉ. संजीव कुमार ने कहा कि ‘साँप’ एक यादगार उपन्यास साबित होगा उपन्यास का मर्म नायक लखीनाथ सपेरा का यह उत्साह भरा और दर्द में डूबा कथन है, “साब हम, धरती बिछावां, आकास ओढ़ां, अपना पसीना से नहा लेवां अर भूख खाकै सो जावां” 
कार्यक्रम का संचालन बजरंग बिहारी ने किया संगोष्ठी में रेखा अवस्थी, संपत सरल, हीरालाल नागर, संदीप मील, रामधन गांगिया, सुशील उपाध्याय, हरेन्द्र तिवारी, शुभम, काजल आदि लेखक व शोधार्थी उपस्थित रहे 

प्रस्तुति- जनवादी लेखक संघ

Comments

Popular posts from this blog

हिन्दी साहित्येतिहास लेखन की समस्याएँ

सारांश : इस शोधालेख के माध्यम से हिंदी साहित्य इतिहास लेखन के दौरान उत्पन्न होने  वाली समस्याओं को विश्लेषित किया गया है। बीज शब्द : साहित्यिक , पुनर्लेखन , इतिहास , गौरवान्वित , अकादमिक , प्रशासनिक , सृजनात्म-        कता , समावेश , सार्थकता , आकांक्षा , ऐतिहासिक , प्रतिबिंब , सामंजस्य , चित्तवृति , कालांतर , संकलन , आंकलन , आह्वान , स्वच्छंदतावाद। आ ज हिन्दी साहित्यिक विद्वानों और आलोचकों के बीच हिन्दी साहित्य पुनर्लेखन की समस्या का मुद्दा देखने-सुनने को मिल जाता है। इस समस्या का फलक इतना विस्तृत है कि इसे किसी लेख में बाँधना कठिन है। इसके पुनर्लेखन की समस्या पर विचार करने से पूर्व हमें इस बात का ज्ञान होना चाहिए कि इतिहास वास्तव में होता क्या है ? साहित्यिक विद्वानों के इतिहास के संदर्भ में किस प्रकार के मत हैं ? अब तक इतिहास लेखन में किन-किन समस्याओं को देखने-समझने का प्रयास किया गया है। इसे लिखने की आवश्यकता क्यों है ? क्या यह साहित्य के लिए उपयोगी है ? इतिहास लेखन में किस प्रकार की सतर्कता बरतनी चाहिए ? किन-किन ऐतिहासिक तत्वों को जोड़ने या घटाने पर हिन्दी साहित्यिक इति

नैतिकता के सवाल और एकेडमिया

स भी प्राणियों में मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जिसके पास सोचने-समझने और बुद्धि के उपयोग की अधिक क्षमता है। यही वजह है कि वह निरंतर जीवन की बेहतरी के लिए प्रयासरत रहता है। इसी प्रयास में वह तमाम अन-सुलझे सवालों का जवाब ढूंढता है। सवालों का संबंध चेतना से है और चेतना तभी आती है जब हम चिंतन करते हैं , चिंतन भी तभी संभव है जब अध्ययन की लालसा हो या सही मौका मिले और सही मौका तभी मिल सकता है जब सामाजिक व्यवस्था लोकतांत्रिक हो , लोकतंत्र भी वहीं हो सकता है जहाँ नैतिकता जीवित रहे। असल में नैतिकता मनुष्य का वह स्वाभाविक गुण है जिससे मनुष्य स्वयं के प्रति उत्तरदायी होता है। दुनिया के तमाम संगठनों , संस्थानों और समुदायों की भी नैतिकता तय की जाती है , अपने आप में यह एक आदर्श स्थिति है। इसी आदर्श के दायरे में व्यक्ति , समाज , समुदाय , संगठन और संस्थानों को रहना होता है। नैतिकता के दायरे में ही सभी नियम या कानून तैयार किये जाते हैं। हालाँकि , नैतिकता मनुष्य का एक ऐसा गुण है जो हर परिस्थिति में उसके साथ रहती है , लेकिन कई बार मनुष्य की दूसरी प्रवृतियाँ इसे अपने अधिपत्य में ले लेती हैं। नतीजतन , लोभ , भय औ

उनकी टांग

सिंहासन बत्तीसी की कहानियाँ सुनीं थीं। टी. वी. पर धारावाहिक भी देखा और अनुमान भी लगाया कि राजा विक्रमादित्य अपने सिंहासन पर बैठे कैसे लगते होंगे ? लेकिन मेरी यह कल्पना तब साकार हुई , जब विद्यालय से घर पहुँचा ही था कि जेब में पड़ा फोन कँपकँपा उठा , मैं तो समझा कि शायद दिल में कंपन हो रहा है , लेकिन अगले ही पल हाथ स्वयं ही जेब में पहुँच गया और मैंने फोन निकालकर देखा कि किसका फोन है ? फोन श्रीमती जी का था इसलिए उसे काटने या अवाइड करने का तो प्रश्न ही नहीं था , तुरन्त आज्ञाकारी पति की होने का फर्ज़ निभाते हुए फोन अटेण्ड किया। हैलो कहने से पहले ही आकाशवाणी की तरह फोन से आवाज़ आई , “ घर में हो तो तुरन्त बाहर आ जाओ ” । मेरे ‘ क्या हुआ ’ पूछने से पहले ही फोन कट गया। बहरहाल मैं तुरन्त ही बाहर गया , पर मुझे ऐसा कुछ नहीं लगा जिससे चौंका जाए। इधर और उधर से रिक्शे , मोटरसाइकिल और पैदल लोगों के साथ लोग अपने दैनिक कार्यों में लगे हुए थे। आवारा कुत्ते सड़क किनारे छाँव में सुस्ता रहे थे और कुछ पिल्ले यहाँ-वहाँ चहलकदमी कर रहे थे।             मैंने सड़क के दोनों ओर देखा , कुछ नहीं है मन में बुदबुदाया

निराला : आत्महन्ता आस्था और दूधनाथ सिंह

कवि-कथाकार और आलोचकीय प्रतिभा को अपने व्यक्तित्व में समोये दूधनाथ सिंह एक संवेदनशील , बौद्धिक , सजगता सम्पन्न दृष्टि रखने वाले शीर्षस्थ समकालीन आलोचक हैं। आपके अध्ययन-विश्लेषण का दायरा व्यापक और विस्तीर्ण है। निराला साहित्य के व्यक्तित्व के विविध पक्षों और उनकी रचनात्मकता के सघन अनुभव क्षणों  का गहरा समीक्षात्मक विश्लेषण आपने अपनी प्रसिद्ध पुस्तक ‘‘ निराला: आत्महन्ता आस्था ’’ (1972) में किया है।             दूधनाथ सिंह जी सर्वप्रथम पुस्तक के शीर्षक की सार्थकता को विवेचित करते हुए लिखते हैं कि कला और रचना के प्रति एकान्त समर्पण और गहरी निष्ठा रखने वाला रचनाकार बाहरी दुनिया से बेखबर ‘‘ घनी-सुनहली अयालों वाला एक सिंह होता है , जिसकी जीभ पर उसके स्वयं के भीतर निहित रचनात्मकता का खून लगा होता है। अपनी सिंहवृत्ति के कारण वह कभी भी इस खून का स्वाद नहीं भूलता और हर वक्त शिकार की ताक में सजग रहता है- चारों ओर से अपनी नजरें समेटे , एकाग्रचित्त , आत्ममुख , एकाकी और कोलाहलपूर्ण शान्ति में जूझने और झपटने को तैयार।...... इस तरह यह एकान्त-समर्पण एक प्रकार का आत्मभोज होता है: कला-रचना के प्रति यह अन

एक आदिवासी भील सम्राट ने प्रारंभ किया था ‘विक्रम संवत’

-जितेन्द्र विसारिया जैन साहित्य के अनुसार मौर्य व शुंग के बाद ईसा पूर्व की प्रथम सदी में उज्जैन पर गर्दभिल्ल (भील वंश) वंश ने मालवा पर राज किया। राजा गर्दभिल्ल अथवा गंधर्वसेन भील जनजाति से संबंधित थे,  आज भी ओडिशा के पूर्वी भाग के क्षेत्र को गर्दभिल्ल और भील प्रदेश कहा जाता है। मत्स्य पुराण के श्लोक के अनुसार :           सन्तैवाध्रा  भविष्यति दशाभीरास्तथा नृपा:।           सप्तव  गर्दभिल्लाश्च  शकाश्चाष्टादशैवतु।। 7 आंध्र, 10 आभीर, 7 गर्दभिल्ल और 18 शक राजा होने का उल्लेख है। 1 पुराणों में आन्ध्रों के पतन के पश्चात् उदित अनेक वंश, यथा (सात श्री पर्वतीय आन्ध्र (52 वर्ष), दस आभीर (67 वर्ष) सप्त गर्दभिल्ल (72 वर्ष) अठारह शक (183 वर्ष) आठ यवन (87 वर्ष) इत्यादि सभी आन्ध्रों के सेवक कहे गये हैं। इन राजवंशों में सप्त गर्दभिल्लों का उल्लेख है। जैनाचार्य मेरुतुंग रचित थेरावलि में उल्लेख मिलता है कि गर्दभिल्ल वंश का राज्य उज्जयिनी में 153 वर्ष तक रहा। 2 'कलकाचार्य कथा' नामक पाण्डुलिपि में वर्णित जैन भिक्षु कलकाचार्य और राजा शक (छत्रपति शिवाजी महाराज वस्तु संग्रहालय, मुम्बई) (फोटो : विकि